May 19, 2024

जाम से परेशान तीर्थ यात्रियों ने की नारेबाजी, यमुनोत्री और गंगोत्री धाम आने वाले तीर्थयात्रियों की मदद को प्रशासन ने हेल्पलाइन नम्बर किया जारी

1 min read

देहरादून। यमुनोत्री और गंगोत्री धाम आने वाले तीर्थयात्रियों की मदद को प्रशासन ने हेल्पलाइन नम्बर जारी कर दिए हैं। आपदा और पुलिस के हेल्पलाइन नम्बरों पर 24 घंटे दोनों धामों से जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारी दी जाएगी। कंट्रोल रूम की मॉनिटरिंग भी शीर्ष अफसरों को दी गई है। ताकि तीर्थयात्रियों की हर समस्या का त्वरित निदान हो सके।

जिलाधिकारी डॉ. मेहरबान सिंह बिष्ट ने कहा कि यमुनोत्री और गंगोत्री धाम यात्रा पर आने वाले श्रद्धालुओं को किसी भी तरह की असुविधा न हो, इसके लिए प्रशासन गंभीर है। तीर्थयात्रियों को दोनों धामों की सड़क, मौसम की स्थिति से लेकर अन्य जानकारी सही और समय पर मिले, इसके लिए जिला आपदा परिचालन केंद्र और जिला पुलिस कंट्रोल रूम के 01374-222722, 222126, टोल फ्री नम्बर-1077, मोबाइल-7500337269, हेल्पलाइन नम्बर जारी किए गए हैं।

इन नम्बरों पर तीर्थयात्री धामों से जुड़ी कोई भी जानकारी और समस्या का समाधान ले सकते हैं। कंट्रोल रूम में 24 घण्टे तीर्थयात्रियों को समाधान की जानकारी मिलेगी। उन्होंने यात्रा रूट पर तैनात सभी नोडल और विभागीय अफसरों को निर्देश दिए कि किसी भी समस्या का निदान समन्वय बनाकर करें। तीर्थयात्रियों को किसी तरह की असुविधा न हो, इसका ध्यान रखा जाए।

चारधाम में अव्यवस्था से यात्री परेशान, विरोध-प्रदर्शन किया

बड़ी संख्या में चारधाम पहुंच रहे तीर्थ यात्रियों को परेशानियों का सामना भी करना पड़ रहा है। यात्रा के दौरान तीर्थ यात्री घंटों-घटों तक लग रहे लंबे जाम में फंस रहे हैं। जाम से परेशान तीर्थ यात्रियों ने गंगोत्री-यमुनोत्री हाइवे पर नारेबाजी की और उन्हें हो रही दिक्कतों का आलाधिकारियों से जवाब मांगा।

बद्रीनाथ धाम में चल रहे मास्टर प्लान के कार्य से तीर्थ यात्री और पुरोहित परेशान हैं। पुरोहितों का कहना है कि बद्री पुरी को जिस तरीके से खुर्द बुर्द किया जा रहा है, वह सनातन के लिए शुभ संकेत नहीं है। तीर्थ पुरोहित नरेश आनंद नौटियाल ने मंदिर समिति पर आरोप लगाते हुए कहा कि बद्रीनाथ धाम में चल रहे मास्टर प्लान के कार्यों के तहत पुराने रास्ते तोड़ दिए गए हैं, जिस वजह से बामणी गांव के लोगों को दिक्कत हो रही है। साथ ही वीआईपी कल्चर के चलते तीर्थ यात्री भी परेशान हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Copyright © All rights reserved. | Newsphere by AF themes.