March 4, 2024

महात्मा गांधी के बाद NCERT की किताब से गायब हुए मौलाना आजाद! क्या एक और विवाद पकड़ेगा तूल

1 min read

किताबों के पाठ्यक्रम में लगातार बदलाव को लेकर राजनीतिक गतिरोध एक बार फिर से गहरा गया है। इस बार कथित तौर पर एनसीईआरटी की राजनीति विज्ञान की पाठ्यपुस्तक से मौलाना अबुल कलाम आजाद का नाम हटा दिया गया! द हिंदू की रिपोर्ट के मुताबिक, नए शैक्षणिक साल में ग्यारहवीं कक्षा के छात्रों को मिली एनसीईआरटी की राजनीति विज्ञान की किताब में मौलाना आजाद का नाम कहीं नहीं है।

हालांकि, किताब के पहले वर्जन ‘संविधान – क्यों और कैसे’ के खंड में संविधान सभा की विभिन्न समितियों की बैठक की शुरुआत में  जहां जवाहरलाल नेहरू, राजेंद्र प्रसाद, सरदार वल्लभभाई पटेल, मौलाना अबुल कलाम आजाद और बीआर अंबेडकर अक्सर मौजूद रहते थे। लेकिन संशोधित किताब में आजाद का नाम गायब है। हालांकि, अभी तक इस संबंध में एनसीईआरटी के अधिकारियों की ओर से कोई बयान नहीं आया है।

इंडिया टुडे में छपी एक रिपोर्ट में इसका जिक्र है कि हाल ही में एनसीईआरटी की पाठ्यपुस्तकों से मुगल इतिहास और महात्मा गांधी हत्या के विषय को हटा दिया गया है। सांप्रदायिक सद्भाव बनाए रखने के महात्मा गांधी के प्रयासों का जिक्र किताब में नहीं है। हालांकि, किताब से जुड़े संबंधित अधिकारियों को इस बारे में सूचित किया गया है।

ऐसा बताया जा रहा है कि महामारी के दौरान छात्रों पर अतिरिक्त दबाव को कम करने के लिए यह निर्णय लिया गया है। इतिहासकारों के एक वर्ग ने इस घटना को केंद्र सरकार का राजनीतिक एजेंडा बता कर पहले ही सवाल खड़े कर दिए हैं। उन्होंने यह भी शिकायत की है कि वे छात्रों को विकृत इतिहास पढ़ाने की कोशिश कर रहे हैं।

इस संदर्भ में इतिहासकार इरफान हबीब ने ‘द हिंदू’ से कहा, “स्वतंत्र भारत के पहले शिक्षा मंत्री के रूप में आजाद ने यह सुनिश्चित किया कि देश के सभी छात्रों को मुफ्त शिक्षा दी जाए। आजाद ने संविधान सभा या संविधान सभा की कई चर्चाओं में महत्वपूर्ण भाषण भी दिए। इसलिए यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि उनका नाम पाठ्यपुस्तकों से हटा दिया गया है।” वयोवृद्ध इतिहासकार हबीब ने यह भी याद दिलाया कि अल्पसंख्यक छात्रों के लिए 2009 में शुरू की गई आजाद छात्रवृत्ति को भी बंद कर दिया गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Copyright © All rights reserved. | Newsphere by AF themes.